About last evening – July 19, 2017

< 1 minute

आपकी आँखों के पन्नो में,
इतने गहरे राज़ हैं,
लाखों हमने पढ़ लिए,
फिर भी बेशुमार हैं,
उन समुन्दर सी आँखों ने,
हमे यूँ ब्यान करना सिखा दिया,
हमे तो दो लफ़्ज़ों का सलीका ना था,
और आपके इश्क़ ने हमे शायर बना दिया।

Copyright © 2017, Aashish Barnwal,  All rights reserved.

Leave a Reply

%d bloggers like this:
Bitnami