About last evening – May 8, 2017

Har roz diary khol kar,
Bas yahi socha karta hun,
Kya likhun unke baare mein,
Khud se pucha karta hun,
Likhte unke baare mein hain,
Jinhe hum bakhubi jante hain,
Yahan toh barso beet gaye,
Phir bhi hum anjaan hain.

हर रोज़ डायरी खोल कर,
बस यही सोचा करता हूँ,
क्या लिखूं उनके बारे में,
खुद से पूछा करता हूँ,
लिखते उनके बारे में हैं,
जिन्हे हम बखूबी जानते हैं,
यहाँ तो बरसो बीत गए,
फिर भी हम अनजान हैं।

Copyright © 2017, Aashish Barnwal,  All rights reserved.

Leave a Reply

%d bloggers like this:
Bitnami