About last evening – November 29, 2017

मुस्कुराहट पर मत जाइए जनाब,
अक्सर धोखा दे जाती है,
अंदर से इंसान कितना तन्हा होता है,
मुझसे बेहतर कौन जान सकता है।

Leave a Reply

%d bloggers like this:
Bitnami