About last evening – November 6, 2017

तुम्हे सोचते सोचते रात यूँ ही निकल जाएगी,
इक तूफ़ान सा है दिल में, नींद कहाँ आएगी,
कल कि मुलाक़ात ना जाने क्या अंजाम लाएगी,
तेरे चेहरे पर मुस्कान आएगी या ख्वाइश अधूरी रह जाएगी।

Copyright © 2017, Aashish Barnwal,  All rights reserved.

Leave a Reply

%d bloggers like this:
Bitnami